< मेडिकल काॅलेज से भागा कोरोना मरीज, डीएम ने दिये कार्यवाही के निर्देश Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News @आकाश कुलश्रेष्ठ, झांसी

"/>

मेडिकल काॅलेज से भागा कोरोना मरीज, डीएम ने दिये कार्यवाही के निर्देश

@आकाश कुलश्रेष्ठ, झांसी

मरीज भर्ती होने के बाद प्रॉपर डिस्चार्ज की कार्रवाई किए बिना मरीज के मेडिकल कॉलेज से फरार हो जाने पर कड़ी कार्यवाही करने के निर्देश। मरीज व परिजनों को अटेंडेंटं द्वारा सहयोग करने पर अटेंडेंटं के विरुद्ध भी विभागीय कार्रवाई के निर्देश। कोविड 19 लैब की सुरक्षा बढ़ाए जाने हेतु अधिक फोर्स लगाए जाने की संस्तुति। लैब में कोई भी सामान्यजन विचरण ना करें, इसे सख्ती से सुनिश्चित किया जाए।  3 कोविड मरीज जल्द होंगे डिस्चार्ज अंतिम रिपोर्ट आने के बाद।

यह भी पढ़ें : प्रधानमंत्री मोदी का राष्ट्र के नाम सम्बोधन, आर्थिक पैकेज की मुख्य बातें

यह निर्देश जिलाधिकारी श्री आन्द्रा वामसी ने महारानी लक्ष्मीबाई मेडिकल कॉलेज प्रशासन द्वारा की गई जांच के परीक्षण उपरांत उक्त आदेश दिये।कोविड पॉजिटिव मरीज के फरार हो जाने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए संबंधित के खिलाफ कार्रवाई किए जाने के निर्देश दिए।

भ्रमण के दौरान जिलाधिकारी आन्द्रा वामसी ने बताया कि शबीना पत्नी अब्बास अली उम्र 40 निवासी तालपुरा थाना नवाबाद मेडिकल कॉलेज के इमरजेन्सी में दिनांक 11  मई 2020 लगभग रात 9:30 बजे भर्ती हुई। उन्हें मिर्गी व दमा के साथ सांस लेने में भी परेशानी थी, उनकी स्थिति बेहद खराब थी। परिवार के सदस्यों को बताया गया कि उन्हें मिर्गी के साथ सांस लेने में समस्या हो रही है और इन्हें नियमतः कृत्रिम सांस दिए जाने हेतु वेंटिलेटर पर रखा जाना है।

मरीज का प्रोटोकॉल के तहत कोविड 19 नमूना परीक्षण हेतु लिए गया, कोविड 19 का रिजल्ट आने में लगभग 8 घंटे का समय लगता है परंतु मरीज के परिजन इलाज को तैयार नहीं थे और वह मरीज को लेकर रिजल्ट आने से पूर्व फरार हो गए। मरीज का कोविड सैंपल पॉजिटिव  निकला। 12 मई 2020 को लगभग प्रातः 5:30 बजे इसकी जानकारी पुलिस को दी गई। बाद में पुलिस द्वारा पूछताछ पर यह जानकारी मिली कि कोविड पॉजिटिव मरीज की मृत्यु अपने घर पर 12 मई 2020 को हो गई।

यह भी पढ़ें :  48 जिलों के श्रमिकों को लेकर आई श्रमिक एक्सप्रेस, एक महिला मृत मिली 

उक्त प्रकरण की जांच  मेडिकल कॉलेज  प्रशासन को सौंपी गयी थी और जांच में यह पाया गया कि अटेंडेंट द्वारा  सहयोग करने पर ही  मरीज फरार हुआ है, इसकी जानकारी पुलिस को दी गई। पुलिस द्वारा भी उस प्रकरण की विवेचना की जा रही है।
जिलाधिकारी ने अस्पताल प्रशासन को संबंधित के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराए जाने के निर्देश दिए। साथ ही उन्होंने मरीज के फरार होने में अटेंडेंट द्वारा मदद करने पर विभागीय कार्यवाही के साथ एफ आई आर दर्ज करने की भी संस्तुति की।


 

अन्य खबर

चर्चित खबरें