< सदर विधायक के प्रयास से खत्म हुआ घुमंतू परिवारों का सत्याग्रह Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News बांदा,

जनपद के खेरवा गांव में र"/>

सदर विधायक के प्रयास से खत्म हुआ घुमंतू परिवारों का सत्याग्रह

बांदा,

जनपद के खेरवा गांव में राशन के लिए पिछले 3 दिनों से जारी घुमंतू परिवारों की जंग विधायक प्रकाश द्विवेदी के हस्तक्षेप से समाप्त हो गई। विधायक ने 42 परिवारों को राशन किट देकर सभी परिवारों को कोटे से तत्काल राशन दिलाने का आश्वासन देकर उनका अनशन समाप्त करा दिया।

यह भी पढ़ें : संक्रमण के दौरान वेंटिलेटर घोटाले पर मचा घमासान

इस मौके पर घुमंतु परिवारों ने कहा कि विधायक के आश्वासन पर हम अनशन समाप्त कर रहे हैं, किंतु पांच दिन के अंदर राशन कार्ड से वंचित परिवारों को राशन कार्ड बनाकर नहीं दिया गया तो हम अपना अनशन फिर से प्रारंभ कर देंगे।उन्होंने कहा कि राशन कार्ड के अलावा हमारी अन्य समस्याएं हैं उन्हें भी सुना जाए। हमारी मजदूरी व अन्य योजनाओं का पैसा बैंक मैनेजर कर्ज में काट लेता है। इस बारे में भुक्तभोगियो ने बैंक मैनेजर द्वारा काटे गए कर्ज का विवरण भी दिया।इस दौरान मौके पर उप जिलाधिकारी नरैनी , जिला पूर्ति अधिकारी, कांग्रेस जिला अध्यक्ष राजेश दीक्षित, महिला कांग्रेस अध्यक्ष सीमा खान, विद्या धाम समिति के सचिव राजा भैया, मीरा राजपूत आदि उपस्थित रहे।

यह भी पढ़ें : कोरोना से जंग में अस्सी वर्ष की महिला ने जीत की हासिल

जहां खेरवा गांव में घुमंतु परिवारों ने अनशन खत्म किया तो वही इसी गांव के कुछबंधिया पुरवा  के घुमंतू परिवारों ने भी उपवास शुरू कर दिया। अनशन पर बैठी सावित्री का कहना है कि प्रशासन घुमंतू परिवारों की घोर उपेक्षा कर रहा है। गांव में राजकुमार के घर में 4 दिन से चूल्हा नहीं जला। पड़ोस के लोगों ने उसके बच्चों को भोजन कराया है ,इसकी जानकारी एसडीएम अतर्रा को दी गई थी किंतु किसी ने कोई कार्यवाही नहीं की।

विद्या धाम समिति के सचिव राजा भैया ने कहा कि जिले भर में राशन कार्डों की बड़ी समस्या है। सरकार ने घोषणा की है कि राशन सबको दिया जाएगा किंतु बड़ी संख्या में लोगों के पास राशन कार्ड नहीं बने। जिन परिवारों के राशन कार्ड नहीं बने उनके तत्काल राशन कार्ड बनाकर जरूरतमंद परिवारों को राशन दिलाया जाए।

अन्य खबर

चर्चित खबरें